Thursday, October 28, 2010

आओ , थोड़ा हँस तो लें.... 10


भिखारी ने गिड़गिड़ाते हुए कहा, मेमसाहब किसी भूखे के लिए घर में खाना होगा?
मेमसाहब- हां है, मगर अभी वो ऑफिस से नहीं लौटे।

पिता पुत्र से- बेटा शरारती लड़कों के पास मत बैठा करो।
पुत्र- हां पापा, इसी कारण तो मैं स्कूल नहीं जाता।

रोगी डॉक्टर से- जब मैं नहाता हूं तो गीला हो जाता हूं।
डॉक्टर- चिंता मत करो। तुम नल बंद करके नहाया करो।
रोगी- ठीक है धन्यवाद।

दो चूहे जंगल में जा रहे थे। सामने से शेर आया तो एक चूहा बोला- आजा इसकी पिटाई करें।
दूसरा चूहा- नहीं रे छोड़ यार, ये अकेला है।

टीचर बच्चों को पढ़ा रहा था। उसने बच्चों से कहा- तुम सबने हिन्दी की पुस्तक का दसवां पाठ पढ़ लिया?
यह सुनकर सभी बच्चों ने हाथ उठा दिए, हां सर पढ़ लिया।
टीचर बोला- बेवकूफों, क्यों झूठ बोलते हो। हिन्दी की पुस्तक में तो दसवां अध्याय है ही नहीं।

एक डॉक्टर महोदय रात को अस्पताल से निकले। अभी वह अपनी कार पहुंचे भी नहीं थे कि एक पागल उनकी तरफ आया। डॉक्टर भागने लगा। पागल भी उनके पीछे भागा। आखिर डॉक्टर भागते-भागते थक गए और नीचे गिर पड़े। पागल ने उनके करीब पहुंच कर उन्हें धीरे से हाथ लगाया और बोला- छू लिया।

टीचर क्लास के बच्चों को बता रहे थे कि एक दिन प्रलय आएगी। धरती फट जाएगी। आकाश टुकड़े-टुकड़े होकर रूईकी तरह उड़ जाएगा, और हर चीज खत्म हो जाएगी। एक बच्चा उठा और बोला- सर क्या उस दिन स्कूल में छुट्टी होगी?

नॉर्वे से लौटे दोस्त से राजू ने पूछा, वहां कितनी ठण्ड थी?
दोस्त- मैं ब्रश पर टूथपेस्ट डालकर पकड़ लेता था बाकि काम अपने आप हो जाता था।

मकान मालिक नए किरायेदार से- अगर आप चाहें तो मेरी नौकरानी आपको सुबह 6 बजे जगा दिया करेगी।
किरायेदार-इसकी कोई जरूरत नहीं, मैं सुबह 5 बजे ही जाग जाता हूं।
मकान मालिक- तो फिर ठीक है। आप 6 बजे नौकरानी को जगा दिया करना।

मालिक चपड़ासी से- तुम्हें मैनेजर ने काम समझा दिया है ना?
चपड़ासी- जी हां, उन्होंने समझा दिया है कि जब आप आएं तो मैं उन्हें जगा दिया करूं।

4 comments:

  1. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete
  2. Greetings from USA! Your blog is really cool.
    Are you living in India?
    You are welcomed to visit me at:
    http://blog.sina.com.cn/usstamps
    Thanks!

    ReplyDelete
  3. वाकेही ये पोस्ट पढकर काफी हंसीं आई.......ऐसे ही पोस्ट करतें रहें ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस सार्थक प्रविष्टि के लिए बधाई स्वीकार करें.

      Delete